Asli Shayar

Iss Category Ke Andar Tamam Asli Shayaro Ki List Hai. Jo Shayari Karte Hai.

0
तीन ही चीज़ें इस तेज़ी से बिछड़ती हैं….,
2

https://www.youtube.com/embed/_LLbRULIX3A तीन ही चीज़ें इस तेज़ी से बिछड़ती हैं....,इक सूरज की पहली किरन और हम दोनों, मैं सितारा हूँ मगर तेज़ नहीं ...

0
जलो ए जलने वालों
1

https://www.youtube.com/embed/Na6gGwrFHbY जलो ए जलने वालोंमुझसे तुम खूब जलोजलो मेरे काम से जलोमेरे रुतबे से जलोमेरी हैसियत से जलोमेरी पहुंच से जलोमेरी ...

0
अनदेखे धागों से
2

https://www.youtube.com/embed/VRyb93k1lRc अनदेखे धागों से,कुछ यू बांध गया मुझको,कि वो साथ ही नहीं,और हम आजाद भी नहीं|

0
आस होगी न आसरा होगा आने वाले दिनों में क्या होगा
1

आस होगी न आसरा होगाआने वाले दिनों में क्या होगा मैं तुझे भूल जाऊँगा इक दिनवक़्त सब कुछ बदल चुका होगा नाम हम ने लिखा था आँखों मेंआँसुओं ने मिटा दिया होगा ...

0
रूठे हुए अपनों को मना लूंगा एक दिनदिल का घर फिर से बसा लूंगा एक दिन
1

रूठे हुए अपनों को मना लूंगा एक दिनदिल का घर फिर से बसा लूंगा एक दिन लगने लगे जहाँ से हर मंज़र मेरा मुझेख़्वाबों का वो जहान बना लूंगा एक दिन अभी तो ...

0
जाने क्यूँ आजकल, तुम्हारी कमी अखरती है बहुतयादों के बन्द कमरे में, ज़िन्दगी सिसकती है बहुत
0

जाने क्यूँ आजकल, तुम्हारी कमी अखरती है बहुतयादों के बन्द कमरे में, ज़िन्दगी सिसकती है बहुत पनपने नहीं देता कभी, बेदर्द सी उस ख़्वाहिश कोमहसूस तुम्हें जो ...

1
तेरी बातों का असरजो छाया है मेरे दिल पर
0

तेरी बातों का असरजो छाया है मेरे दिल परयक़ीनन मुझे तड़पाएगाअब ये रात भरसोचा भूल जाऊंगा तुझेअब करूँगा ना यादमगर दर्द ही मिला मुझे,तुझे भूल कर

0
निकल पड़ा हूँ उस रास्ते पेजो कभी ख़त्म नहीं होता
0

निकल पड़ा हूँ उस रास्ते पेजो कभी ख़त्म नहीं होता रुक जाता उस वक़्त अगर तूने….एक बार भी रोका होता आते हैं आज भी वो सपनेजब कभी गलती से, मैं सोता बनाता हूँ ...

0
ज़हर को दूध समझ कर कैसे पिया जायेदिल हो अगर ज़ख़्मी तो उसे कैसे सिया जाये
0

ज़हर को दूध समझ कर कैसे पिया जायेदिल हो अगर ज़ख़्मी तो उसे कैसे सिया जाये जब खुद पर ही यकीन नहीं रहा मुझेतो तुझ पर यकीन अब कैसे किया जाये ज़िन्दगी है मेरी ...

0
आखिर क्यों मुझे तुम इतना दर्द देते होजब भी मन में आये क्यों रुला देते हो
0

आखिर क्यों मुझे तुम इतना दर्द देते होजब भी मन में आये क्यों रुला देते होनिगाहें बेरुखी हैं और तीखे हैं लफ्ज़ये कैसी मोहब्बत हैं जो तुम मुझसे करते हो मेरे ...