लहरों को खामोश देखकर यह न समझना

लहरों को खामोश देखकर यह न समझना
कि समुन्दर में रवानी नहीं है
हम जब भी उठेंगे तूफ़ान बनकर उठेंगे
बस उठने की अभी ठानी नहीं है

1 Comment
  1. Wah wah kya bat hai ye line bahut hi sundar and achhi hai

    Leave a reply

    %d bloggers like this: