shayari

मेरे चहरे को तबसे कोई आइना अच्छा नहीं लगता है

तेरी आँखों में जबसे मैंने अपना अक्स देखा है
मेरे चहरे को तबसे कोई आइना अच्छा नहीं लगता है

  • Article By :
    Real Shayari Ek Koshish hai Duniya ke tamaan shayar ko ek jagah laane ki.

Random Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*