Tag: Kabhi khud pe kabhi halat pe rona aaya ghazal
0
कभी ख़ुद पे कभी हालात पे
-2

कभी ख़ुद पे कभी हालात पे रोना आया  बात निकली तो हर इक बात पे रोना आया  हम तो समझे थे कि हम भूल गए हैं उन को  क्या हुआ आज ये किस बात पे ...