Sad

Collection of Real Shayari in Sad Category

0
तेरी बातों का असर
1

तेरी बातों का असरजो छाया है मेरे दिल परयक़ीनन मुझे तड़पाएगाअब ये रात भरसोचा भूल जाऊंगा तुझेअब करूँगा ना यादमगर दर्द ही मिला मुझे,तुझे भूल कर

0
मोम के पास कभी आग को लेकर देखूं
1

मोम के पास कभी आग को लेकर देखूंसोचता हूँ के तुझे हाथ लगाकर देखूं मैंने देखा है ज़माने को शराब पीकरदम निकल जाए अगर होश में आकर देखूं दिल का मंदिर बड़ा ...

0
बड़ी मुश्किल से बना हूँ
1

https://www.youtube.com/embed/yQYqQg1--uw बड़ी मुश्किल से बना हूँ,टूट जाने के बाद |मै आज भी रो देता हु,अक्सर मुस्कराने के बाद

0
जरा देखो दरवाजे पे
1

https://www.youtube.com/embed/wMCLjnEEvqM जरा देखो दरवाजे पे,दस्तक किसने दी है?अगर इश्क़ हो तो कहना,यहां दिल नहीं रहता |

0
राहे रूकती हैं जब, ज़िन्दगी झुकती हैं तबसर झुकता है जब, वक़्त रुकता हैं तब
0

राहे रूकती हैं जब, ज़िन्दगी झुकती हैं तबसर झुकता है जब, वक़्त रुकता हैं तब जमाना हसंता हैं जब, सांसें रूकती हैं तबबाहे दुखती हैं जब, हिम्मत रूकती हैं तब ...

0
आखिर क्यों मुझे तुम इतना दर्द देते होजब भी मन में आये क्यों रुला देते हो
0

आखिर क्यों मुझे तुम इतना दर्द देते होजब भी मन में आये क्यों रुला देते होनिगाहें बेरुखी हैं और तीखे हैं लफ्ज़ये कैसी मोहब्बत हैं जो तुम मुझसे करते हो मेरे ...

0
जाने क्यूँ आजकल, तुम्हारी कमी अखरती है बहुतयादों के बन्द कमरे में, ज़िन्दगी सिसकती है बहुत
0

जाने क्यूँ आजकल, तुम्हारी कमी अखरती है बहुतयादों के बन्द कमरे में, ज़िन्दगी सिसकती है बहुत पनपने नहीं देता कभी, बेदर्द सी उस ख़्वाहिश कोमहसूस तुम्हें जो ...

0
Usse jana tha…aur hmne jane diya. (2 Line Shayari)
0

https://www.youtube.com/embed/JvbNbBwP5o4

0
Mili hayaat hi aisi ke haya bhi ro padiTeri talash mein zalim saza bhi ro padi
0

Mili hayaat hi aisi ke haya bhi ro padiTeri talash mein zalim saza bhi ro padi Tujhe toot kar chaha aur itna chaha,Teri wafaa ki khatir wafa bhi ro padi ...

0
इश्क़ वालों से न पूंछो किउनकी रात का आलम तनहा कैसे गुज़रता है
0

इश्क़ वालों से न पूंछो किउनकी रात का आलम तनहा कैसे गुज़रता है जुदा हो हमसफ़र जिसका,वो उसको याद करता है न हो जिसका कोई वो मिलने की फ़रियाद करता ...

0
सबब लूटने का गर कोई पूछे तो ये कहना…
1

सबब लूटने का गर कोई पूछे तो ये कहनासाथ उनका न हो तो हमें जीना नहीं आता।

0
जाने ऐसी भी क्या तिश्नगी थी उनसे…..
0

जाने ऐसी भी क्या तिश्नगी थी उनसेआखरी सांस थी और तसव्वुर उनके साथ का।