मिजाज इश्क़ के….

मिजाज इश्क़ के मेरे ज़रा हसास हैं
तेरे गुरूर का बोझ उठा नहीं सकता ।

We will be happy to hear your thoughts

      Leave a reply

      %d bloggers like this: