चमन से बिछड़ा हुआ एक गुलाब हूँ

चमन से बिछड़ा हुआ एक गुलाब हूँ में
मै खुद ही अपनी तबाही का जवाब हूँ
यूँ निगाहें ना फेर मुझसे ऐ मेरे महबूब
मैं तेरी चाहतो में ही हुआ बर्बाद हु

We will be happy to hear your thoughts

Leave a reply