अनदेखे धागों से

अनदेखे धागों से,
कुछ यू बांध गया मुझको,
कि वो साथ ही नहीं,
और हम आजाद भी नहीं|

We will be happy to hear your thoughts

      Leave a reply

      %d bloggers like this: