न जाहिर हुई तुमसे

न जाहिर हुई तुमसे और न ही बयान हुई हमसे,


बस सुलझी हुई आँखो में उलझी रही मोहब्बत।

We will be happy to hear your thoughts

      Leave a reply

      %d bloggers like this: