मुहब्बत में झुकना कोई अजीब बात नहीं

मुहब्बत में झुकना कोई अजीब बात नहीं;
चमकता सूरज भी तो ढल जाता है चाँद के लिए।

Leave a Comment

%d bloggers like this: