ज़माने के सवालों को में हस के टाल दू लेकिन,

ज़माने के सवालों को में हस के टाल दू लेकिन,
नमी आँखों की कहती हे मुझे तुम याद आते हो|

We will be happy to hear your thoughts

      Leave a reply

      %d bloggers like this: