Love Shayari

न कोई मुलाकात न किसी वादे का तकाज़ा तुमसे
हम तो बस एक झूटी तस्सल्ली के तलबगार थे।

We will be happy to hear your thoughts

Leave a reply