नजर को बदलो तो नजारे बदल जाते है

नजर को बदलो तो नजारे बदल जाते है
सोचको बदलो तो सितारे बदल  है.
कश्तियाँ बदलने की जरुरत नहीं
दिशा को बदलो तो किनारे खुद व् खुद बदल जाते है

2 Comments
  1. Khwahish hai mujhe , phir se zindagi jeene ki . Ab samajh Ayee zindagi kya hai .

Leave a reply