शाम सूरज को ढलना सिखाती है

शाम सूरज को ढलना सिखाती है
शमां परवाने को जलना
गिरने पर चोट तो जरूर लगती है
लेकिन ठोकर ही इंसान को चलना सिखाती है |

1 Comment
  1. Very Nice Shayari But My Suggestions You Will Make a Many More Shayari Collection in Your Blog
    Read Also -: Best Of 2020 Shayari Collection

Leave a reply